उस परम्परा को जीवित रखने के लिये जो यह बताता है कि बिना पुरोहित भी पूजा हो सकती है

Facebook Comments